5 March 2012

छोटी छोटी चित्तरायीं यादें..

. . .
 
छोटी छोटी चित्तरायीं यादें..
बीछी पडी है लम्हों की लौन पर..
नंगे पैर उनपे चलते-चलते
इतनी दुर आ गये है,
की अब भुल गये है जुते कहां उतारे थे...

एडी कोमल थी जब आयें थे,
थोडी सी नाजुक है अभी भी..
और नाजुक ही रहेगी,
इन खट्टी-मीठी यादों की शरारत..
जब तक इन्हें गुदगुदाती रहेगी....
सच... भुल गये है जुते कहां उतारे थे...

पर लगता है की.. अब उनकी जरूरत नही.....!!

. .

- Written By Amitabh Bhattacharya

. . . 
Post a Comment